Skip to main content

Posts

Showing posts with the label कलयुग का आगमन - राजा परीक्षित

कलयुग का आगमन - राजा परीक्षित

भागदौड़ भरी जिंदगी में ना जाने हम कितनी ही महत्वपूर्ण चीजें अपनी जिंदगी से दूर करते चले आ रहे हैं हम अपने जीवन में इतने व्यस्त हैं कि हम अपना ध्यान आस्था की और भी नहीं रख पाते हैं ।आज में श्रीमद भगवत गीता की एक पौराणिक कथा बताऊंगी। यह हमारे जीवन से कैसे संबंधित है कैसे हम काल के पीछे चले जा रहे हैं -

यह कथा उस समय की है जब कलयुग आने वाला था। राजा परीक्षित नाम के एक राजा हुआ करते थे।एक बार राजा परीक्षित जंगल में शिकार खेलने गए तो उन्हें बीच जंगल में एक बहेलिया मिला वह गाय और बैल को मार रहा था जो कि गाय रूपी माता थी बैल धर्म रूपी था, तब राजा ने पूछा कि तुम इन्हेक्यों मार रहे हो बहेलिया ने कहा कि हम कहां रहे हमें रहने के लिए कहीं जगह नहीं मिल रही है तब राजा परीक्षित ने पूछा आखिर तुम कौन हो जो इतनी बुरी तरह से जानवरों को मार रहे हो तो बहेलिया ने कहा कि में कलयुग हैं, मुझे रहने के लिए स्थान चाहिए।जहां गाय और धर्म होगा में वहां कैसे रह सकता हूँ ऐसा सुनते ही राजा परिचित ने कहा कि ठीक है, हम तुम्हें रहने के लिए 5 स्थान दे रहे हैं पहला स्थान बाजार ,दूसरा स्थान वैश्य, तीसरा जुआ, चौथा स्थान शराब…