Skip to main content

Posts

Showing posts with the label रानी कर्णावती का इतिहास

रानी कर्णावती का इतिहास

रानी कर्णावती राजस्थान (Rajasthan) चित्तौड़गढ़ की एक महान रानी थी । रानी कर्णावती का विवाह राजा राणा संग्राम सिंह के साथ हुआ था। उन्हें मेवाड़ की राजधानी चित्तौड़गढ़ के सिसोदिया वंश के राणा सांगा के नाम से भी जाना जाता था। महारानी कर्णावती के 2 पुत्र थे।  राजा विक्रमादित्य और राजा उदय सिंह, रानी कर्णावती महाराणा प्रताप की दादी थी।
1526  में मुगल बादशाहा बाबर ने दिल्ली के सिंहासन पर कब्जा किया। मेवाड़ के राजा राणा सांगा ने मुगल बादशाह के खिलाफ राजपूत शासकों का एक दल का नेतृत्व किया। परंतु अगले वर्ष खानवा की लड़ाई में राणा सांगा पराजित हो गए और उस युद्ध के दौरान राजा राणा सांगा को कई गहरे घाव भी लगे जिसके कारण उनकी मृत्यु हो गई।
अब रानी कर्णावती के कंधों पर चित्तौड़गढ़ और अपने दोनों पुत्रों को संभालने की जिम्मेदारी आ गई , कुछ समय पश्चात रानी कर्णावती ने अपने बड़े बेटे को राज्य का पदभार संभालने के लिए नियुक्त किया , किंतु अभी उनकी आयु इतने बड़े राज्य को संभालने कि नहीं थी।
इस बीच गुजरात (Gujrat) के बहादुर शाह ने 1534 में चितौड़ के नाराज सामंतो के कहने पर चितौड़ पर दुबारा से हमला कर दिया। ज…