Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Story of Mahashivratri

महाशिवरात्रि की पौराणिक कथा -Legend of Mahashivaratri

महाशिवरात्रि या शिवरात्रि का त्यौहार फाल्गुन कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी/चतुर्दशी को मनाया जाता है । हिन्दू पुराणों के अनुसार इसी दिन सृष्टि के आरंभ  में मध्यरात्रि में भगवान शिव ब्रह्मा से रुद्र के रूप में प्रकट हुए थे । इसीलिए इस दिन को महाशिवरात्रि या शिवरात्रि कहा जाता है। बहुत से श्रद्धालुओं का मानना हैं कि इस दिन भगवान शंकर और माता पार्वती का विवाह हुआ था।  भगवान शंकर माता पार्वती को बहुत प्रेम करते थे और उनका सम्मान भी करते थे।  भगवान शंकर को भोले बाबा के रूप में भी पुकारा जाता है जिसके फलस्वरूप हर स्त्री भगवान शंकर से उनके स्वरूप पति पाने के चाह रखती है और महाशिवरात्रि का उपवास और आराधना करती हैं।  ऐसा केवल स्त्री  नहीं पुरुष भी भगवान शंकर की उपासना और आराधना करते है ।
महाशिवरात्रि का त्यौहार हिन्दुओं का श्रद्धा से भरा प्रमुख त्यौहार होता है इस दिन श्रद्धालुगण सुबह स्नान करके स्वच्छ कपड़े पहन कर शिव मंदिर जाते है और उनकी पूजा अर्चना करते है।  कई लोग इस दिन कोरे कपड़े (नय  कपड़े ) भी पहनते हैं।  इस दिन बाजार में भगवान शिव की आराधना के लिए पूजन सामग्री मिलती है जिनमें से प्रमुख हैं बेल …